आईपीओ क्या होता है? ipo kya hota hai | ipo meaning in hindi

अगर आप भी जाना चाहते हैं कि ipo kya hota hai, ipo full form in hindi ,ipo खरीदने के क्या फायदे हैं, क्या ipo में इन्वेस्ट करना चाहिए, ipo से पैसा डबल कैसे करें, ipo कैसे खरीदें यह सब जानने के लिए आप इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े आपके सारे प्रश्नों का हल मिल जाएगा!

ipo kya hota hai (ipo full form in hindi)-

IPO की फुल फॉर्म होती है Initial Public Offering, ipo का मतलब होता है जब कोई कंपनी पहली बार शेयर मार्केट में लिस्ट होती है और अपने शेयर पहली बार बेचने जाती है तो वह होता है आईपीओ, ipo लाने के बाद प्राइवेट कंपनी प्राइवेट नहीं रहती बल्कि पब्लिक बन जाती है क्योंकि अब इसमें पब्लिक का पैसा भी लग जाता है अबे कंपनी ipo क्यों निकालती है और अपने शेयर क्यों बेचती है यह सब हम एक उदाहरण से समझेंगे!

यह भी पढ़ें-भविष्य में बढ़ने वाले शेयर 2023 | kis company ke share kharide

Ex-मान लीजिए मेरी यह कंपनी है जिसकी वैल्यूएशन 100cr है इस कंपनी को इंटरनेशनल करना चाहता हूं इसके लिए मुझे 25 करोड रुपए की आवश्यकता पड़ेगी अब 25 करोड के लिए में या तो बैंक से लोन लूंगा अगर मैं लोन लूंगा तो मुझे बैंक को ब्याज भी देना पड़ेगा और पैसा भी देना पड़ेगा तो उसमें मेरा तो सब कुछ लूट जाएगा इससे अच्छा है मैं मेरी कंपनी को शेयर मार्केट में लिस्ट करवा लूं उसके बाद अपनी कंपनी का ipo लॉन्च करूं, जिसके बाद लोग मेरी कंपनी के शेयर खरीदेंगे और वह पैसा मेरे पास आ जाएगा जिससे मैं आसानी से बिजनेस कर सकता हूं यह तो मेरी कंपनी का फायदा है लेकिन आप लोगों का इसमें क्या फायदा होगा अगर आप ipo के शेयर खरीदते हैं तो यह हम आगे जानेंगे!

कंपनी IPO कैसे लाती है? | how does a company issue IPO-

जब भी कोई कंपनी आईपीओ लाने का प्लान करती है तो उसे डीटीएल में डॉक्यूमेंट बनाना पड़ता है उस डॉक्यूमेंट में कंपनी की सारी जानकारी होती है जैसे कि कंपनी का बिजनेस, कंपनी की हिस्ट्री, कंपनी की फाइनेंसर डिटेल, कंपनी के फ्यूचर प्लान आदि!

इस डॉक्यूमेंट को DRHP(draft Red Herring prospectus) कहते हैं कंपनी को यह डॉक्यूमेंट SEBI के पास सबमिट करना होता है SEBI यह एक गवर्नमेंट संस्था है जो स्टॉक मार्केट को नियंत्रित करती है ठीक उसी प्रकार जैसे आरबीआई बैंकों को नियंत्रित करती है SEBI इस डॉक्यूमेंट को रिव्यू करती है और इसका IPO लाने की परमिशन देती है! परमिशन मिलने के बाद कंपनी IPO लाने के लिए तैयार हो जाती है!

आईपीओ लाना एक कॉन्प्लेक्स प्रोसेस होता है इसलिए कंपनियां इन्वेस्टमेंट बैंक को हायर करती है जिनका काम होता है आईपीओ लाने में कंपनियों की मदद करना इन्वेस्टमेंट बैंक कंपनियों के साथ मिलकर आईपीओ लाने का सारा प्लान बनाती है और फिर आईपीओ को पब्लिक के लिए ओपन किया जाता है ताकि पब्लिक इसमें अप्लाई कर सके!

ipo खरीदने के फायदे (benefits of buying IPO)-

  • जब भी कोई कंपनी शेयर मार्केट में आती है और अपना ipo लॉन्च करती है तो ज्यादातर आपको सबसे कम प्राइस में उस कंपनी शेयर मिलता है कुछ टाइम बाद ही वह प्राइस 2 से 3 गुना तक बढ़ जाती है!
  • Price transparency-दूसरा बड़ा फायदा आईपीओ में प्राइस ट्रांसपेरेंसी होती है, यानी कि उस शेयर की जो प्राइज होगी वह आपके ऑर्डर डॉक्यूमेंट में लिखी होगी यानी कि जो छोटे इन्वेस्टर है और जो बड़े इन्वेस्टर है उन दोनों के पास समान इंफॉर्मेशन होगी!
  • तीसरा बड़ा फायदा होता है जब कंपनी ipo लॉन्च करती है कंपनी या तो खुद को फैलाने की सोच रही होती है या फिर अपना लोन पे करने की सोच रही होती है तो एक तरीके से कंपनी आगे बढ़ने जा रही होती है जिससे कंपनी की ग्रोथ काफी हद तक बढ़ जाती है!
  • ipo के कारण कंपनी के पास बहुत अधिक पैसा जाता है जो कंपनी अपने बिजनेस को फैलाने में लगाती है जिससे कंपनी के शेयर की प्राइस भी बहुत जल्दी से बढ़ती है जिससे आपके प्रॉफिट होने की संभावना काफी हद तक हो जाती!

Ex-21 सितंबर 2020 को routemobile ltd का ipo लॉन्च हुआ था तब उसकी प्राइस ₹350 थी, 1 साल के भीतर ही उसकी प्राइस ₹2000 तक पहुंच गई थी! यानी कि 1 साल के अंदर ही पैसा 5-6 गुना हो गया था! ऐसे ही 17 दिसंबर 2020 को happiest mind का ipo लांच हुआ था तब उसकी प्राइस ₹166 थी 1 साल के भीतर ही उसकी प्राइस बढ़कर ₹1400 तक पहुंच गई थी यानी कि उसने 1 साल में ही पैसा 8 गुना हो गया था!

इन सब के बावजूद भी मैं आपको एक बात क्लियर कर देता हूं मैंने बहुत तारीफ कर दी कि आपका पैसा दुगना हो जाएगा 3 गुना हो जाएगा लेकिन आंख बंद करके किसी भी कंपनी ipo मत खरीद लेना अपनी खुद की भी रिसर्च करना जरूरी है क्योंकि कई बार कुछ कंपनियां ipo लॉन्च होने के बाद लॉस भी दे सकती है!

अगर आपने निर्णय ले लिया है कि आईपीओ में इन्वेस्ट करना चाहते हैं या आईपीओ खरीदना चाहते है लेकिन इससे पहले कुछ महत्वपूर्ण बातें जान लेना आपके लिए बहुत जरूरी है!

ipo से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बिंदु-

  • ipo खरीदने के लिए आपको सबसे पहले अप्लाई करना होता है अगर आप अप्लाई कर देते हैं तो कोई गारंटी नहीं है की आपकी allotment होगी! Ex-किसी कंपनी के 1 करोड़ शेयर अवेलेबल है और 2 करोड शेयर की एप्लीकेशन आ जाए तो सभी को तो ना ही मिलेगा ना तो अप्लाई करने के बाद जरूरी नहीं है कि आपको ipo मिलेगा या नहीं मिलेगा!
  • ipo में आपका जितना मन करें 2,4,6 ऐसे शेयर नहीं खरीद सकते उसका एक लोट साइज होता है UTAMC का लोट साइज 27 है यानी कि अगर आप इसके शेयर करना चाहते हैं तो आपको कम से कम 27 शेयर खरीदने पड़ेंगे या फिर ज्यादा खरीदना चाहते हैं तो 27 के गुना (Multiples) में खरीदने होंगे! जैसे कि 27,54,108,216
  • आप अधिकतम कितने शेयर खरीद सकते हैं उसकी भी एक लिमिट होती है आप चाह कर भी उससे ज्यादा नहीं खरीद सकते!
  • जरूरी नहीं है कि आपने जितनी शेयर के लिए अप्लाई किया है उतना मिल जाएंगे यह शेयर्स की उपलब्धता और कितनी एप्लीकेशन आई है उस पर निर्भर करता है!

ipo में अप्लाई कैसे करें | where to apply for an IPO-

ipo आईपीओ में हम ऑनलाइन या ऑफलाइन अप्लाई कर सकते हैं आईपीओ में ऑनलाइन अप्लाई करने की सुविधा हर बैंक देती है इसके अलावा आप अपने मोबाइल से कुछ ब्रोकर जैसे zerodha upstox stock और Angel one se से अप्लाई कर सकते हो!

Upstox में आईपीओ के लिए ऑनलाइन आवेदन | How to apply IPO in Upstox mobile app-

credit-All Money Mantra

Disclaimer-यह आर्टिकल केवल शिक्षा के उद्देश्य से इसलिए किसी भी ipo में इन्वेस्ट करने से पहले अपनी रिसर्च जरूर कर ले!

अधिक जानने के लिए-https://en.wikipedia.org/wiki/Initial_public_offering

Sharing Is Caring:

Leave a Comment